महाराष्ट्र में कोरोना वायरस संक्रमण के 5,218 नए मामले सामने आए

महाराष्ट्र में कोरोना वायरस संक्रमण के 5,218 नए मामले सामने आए

महाराष्ट्र में पिछले 24 घंटे में कोविड-19 वायरस संक्रमण के 5,218 नएमामले सामने आए है जबकि एक रोगी की मृत्यु हुई है. राज्य में Covid-19 से अब तक संक्रमित हो चुके रोगियों की संख्या बढ़कर 79,50,240 पर पहुंच गई और मृतकों का कुल आंकड़ा 1,47,893 हो गया.

देश में एक बार फिर से कोविड-19 वायरस के नए मामलों में वृद्धि देखने को मिल रही है. इस वृद्धि में सबसे अधिक मुद्दे महाराष्ट्र और दिल्ली में आ रहे हैं. गुरुवार को भी दोनों ही राज्यों में मामलों में वृद्धि देखी गई है. हालांकि राहत की बात यह है कि मृत्यु के मामलों में कोई खास वृद्धि नहीं हो रही है. हालांकि, दिल्ली और महाराष्ट्र में लगातार बढ़ते संक्रमण करने एक बार फिर से लोगों की चिंताएं बढ़ा दी हैं. सबसे बड़ा प्रश्न यही है कि क्या राष्ट्र में कोविड-19 वायरस की चौथी लहर आने वाली है? महाराष्ट्र में कोविड-19 वायरस के नए मुद्दे 5000 से अधिक आए हैं. जबकि दिल्ली में भी नए मामलों की संख्या लगभग दो हजार के करीब है. 

महाराष्ट्र में Covid-19 के 5,218 नए मुद्दे सामने आए

महाराष्ट्र में पिछले 24 घंटे में कोविड-19 वायरस संक्रमण के 5,218 नएमामले सामने आए है जबकि एक रोगी की मृत्यु हुई है. राज्य में Covid-19 से अब तक संक्रमित हो चुके रोगियों की संख्या बढ़कर 79,50,240 पर पहुंच गई और मृतकों का कुल आंकड़ा 1,47,893 हो गया. रिपोर्ट के मुताबिक, महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई में कोविड-19 वायरस संक्रमण के 2,479 नए रोगियों की पहचान हुई. इसमें बताया गया है कि राज्य में बुधवार के मुकाबले बृहस्पतिवार को 60 प्रतिशत अधिक मुद्दे सामने आए. बुधवार को महाराष्ट्र में Covid-19 के 3,260 नए मुद्दे और तीन और मौतें दर्ज की गई थीं. सबसे अधिक 13,614 मुद्दे मुंबई में रिकॉर्ड किए गए थे. पड़ोसी ठाणे जिले में 5,488 और पुणे में 2,443 रोगी संक्रमित मिले थे. 

दिल्ली में Covid-19 के 1,934 नए मामले

दिल्ली में Covid-19 के 1,934 नए मुद्दे सामने आए और संक्रमण रेट 8.10 फीसदी रही. पिछले 24 घंटे में महामारी से दिल्ली में किसी की मृत्यु का कोई मामला सामने नहीं आया है. नए मुद्दे कल किए गए 23,879 नमूनों के परीक्षण में सामने आए हैं. दिल्ली में नए मामलों के साथ कोविड-19 वायरस संक्रमण के कुल मामलों की संख्या बढ़कर 19,27,394 हो गई है और मृतक संख्या 26,242 पर बनी हुई है. राष्ट्र में एक दिन में Covid-19 के 13,313 नए मुद्दे सामने आने के बाद कोविड-19 वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 4,33,44,958 हो गई. वहीं, उपचाराधीन रोगियों की संख्या बढ़कर 83,990 पर पहुंच गई. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से बृहस्पतिवार को सुबह आठ बजे जारी अद्यतन आंकड़ों के अनुसार, हिंदुस्तान में संक्रमण से 38 और लोगों की मृत्यु के बाद मृतकों की संख्या बढ़कर 5,24,941 हो गई. 


आरे मैट्रो कार शेड के खिलाफ फिर शुरू हुआ प्रदर्शन

आरे मैट्रो कार शेड के खिलाफ फिर शुरू हुआ प्रदर्शन

महाराष्ट्र में जैसे ही भाजपा और शिवसेना बागी एकनाथ शिंदे ( Eknath Shinde) गुट के गठबंधन गवर्नमेंट बनी वैसे ही नयी गवर्नमेंट तुरंत एक्शन मूड में आती दिखाई दी. महाराष्ट्र की नयी गवर्नमेंट ने आरे कालोनी (Aarey Colony Jungle) क्षेत्र में अधर में लटके मैट्रो कार शेड-3 के काम को तुरंत प्रारम्भ करने की बात कही थी. लेकिन उनके आरे कार शेड निर्माण का रास्ता इतना आसान होता नही दिखाई दे रहा है. क्योंकि एकबार फिर गोरेगांव के आरे में मेट्रो कार शेड (Metro Car Shed) के विरूद्ध बड़े स्तर पर विरोध प्रदर्शन प्रारम्भ हो गया है. बड़ी संख्या में पर्यावरण प्रेमी इस मेट्रो कार शेड को रुकवाने के लिए आरे के परिसर में धरना दे रहें हैं. सैंकड़ो की भीड़ गवर्नमेंट के विरूद्ध नारे लगा कर मैट्रो कार शेड निर्माण रोकने की मांग कर रहें हैं.

आपको बता दें कि, पिछली भाजपा की गवर्नमेंट में जब आरे में कार शेड बनने का आरंभ हुआ था, तब इसी तरह प्रदर्शन हुआ हुआ था, जो धीरे-धीरे उग्र रूप ले लिया था. लेकिन जब फिर महा विकास अघाड़ी की गवर्नमेंट बनी तो इस पर रोक लगाकर कर इस कार शेड को कन्जुर्माग में इस्टर्न हाइवे के पास ले जाकर ईगल कंस्ट्रक्शन नामक कंपनी को शेड बनाने का ठेका दिया गया था

जिस पर भाजपा ने विरोध प्रकट किया था और जमीन के टकराव को लेकर उच्च न्यायालय ने कंजुर्मार्ग कार शेड निर्माण पर स्टे दे दिया था. ऐसे में जब एक बार फिर जैसे ही एकनाथ शिंदे गुट के साथ भाजपा की गवर्नमेंट बनी तो, नवगठित महाराष्ट्र गवर्नमेंट ने महाधिवक्ता को निर्देश दिया कि,  मेट्रो कार शेड मुंबई की आरे कॉलोनी में ही बनाया जाए. जिस पर तुरंत कामकाज की आरंभ की जाए.

विदित है कि, आरे में फिर जागृत हुए आंदोलनकारियों में कई प्रकृति प्रेमी संस्था भी सम्मलित हैं. इस धरने में नो ट्री नो आक्सीजन जैसे बैनर के साथ सैकड़ो की संख्या में लोग मौजूद हैं. इसके अतिरिक्त आपको बता दें कि पूर्व मंत्री आदित्य ठाकरे ने भी नए गवर्नमेंट के विरूद्ध अपना विरोध दर्ज कराया था. पूर्व महाराष्ट्र मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने इसे बदले की राजनीति बताया था. वहीं भाजपा शिंदे गठबंधन की नयी गवर्नमेंट ने विकास के गति बढ़ाने की पैरवी करते हुए सभी मैट्रो योजनओं को जल्द पूर्ण करने की बात कही है