कांग्रेस ने इसे ‘लोकतंत्र का अपमान’ करार दिया और कहा...

कांग्रेस ने इसे ‘लोकतंत्र का अपमान’ करार दिया और कहा...

 

कांग्रेस सहित विपक्ष ने असंसदीय शब्दों के संबंध में नये संकलन पर विरोध जताई है. कांग्रेस पार्टी ने इसे ‘लोकतंत्र का अपमान’ करार दिया और बोला कि वह ‘जुमलाजीवी’ जैसे शब्दों का उपयोग करती रहेगी. गौरतलब है कि संसद की कार्यवाही के दौरान सदस्य अब जुमलाजीवी, बाल बुद्धि सांसद, शकुनि, जयचंद, लॉलीपॉप, चाण्डाल चौकड़ी, गुल खिलाए, पिट्ठू जैसे शब्दों का उपयोग नहीं कर सकेंगे. ऐसे शब्दों के प्रयोग को अमर्यादित आचरण माना जाएगा और वे सदन की कार्यवाही का हिस्सा नहीं होंगे. लोकसभा सचिवालय ने ‘असंसदीय शब्द 2021’ शीर्षक के अनुसार ऐसे शब्दों एवं वाक्यों का नया संकलन तैयार किया है.

नये संकलन पर कांग्रेस पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट किया, ‘नए हिंदुस्तान के लिए यह नया शब्दकोष है.’ पार्टी महासचिव जयराम रमेश ने ट्वीट किया, ‘मोदी गवर्नमेंट की सच्चाई दिखाने के लिए विपक्ष द्वारा उपयोग किए जाने वाले सभी शब्द अब ‘असंसदीय’ माने जाएंगे. अब आगे क्या विषगुरु?’ कांग्रेस पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने प्रश्न किया, ‘संसद में राष्ट्र के अन्नदाताओं के लिए आंदोलनजीवी शब्द किसने प्रयोग किया था?’ राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने बोला कि गवर्नमेंट को घेरने के लिए इन शब्दों का उपयोग किया जाता रहेगा. पार्टी प्रवक्ता शक्ति सिंह गोहिल ने संवाददाताओं से कहा, ‘… बीजेपी के लोग विपक्ष में रहते हुए इन शब्दों का उपयोग कर रहे थे.’ गोहिल ने कहा, ‘मैं लोकसभा अध्यक्ष और राज्यसभा के सभापति से बोलना चाहता हूं कि आप दोनों सदन के संरक्षक हैं, आप यह कैसे होने दे सकते हैं?’

तृणमूल कांग्रेस पार्टी के नेता डेरेक ओब्रायन ने ट्वीट किया, ‘… मैं इन शब्दों का उपयोग करूंगा. लोकतंत्र के लिए लड़ना है.बसपा के सांसद दानिश अली ने लोकसभा में चर्चा में भाग लेने का अपना एक वीडियो साझा करते हुए ट्वीट किया, ‘संसद के नये नियमों के प्रारूप के मुताबिक आंदोलनजीवी संसदीय भाषा है लेकिन जुमलाजीवी असंसदीय…. क्योंकि पीएम जी के ‘आंदोलनजीवी’ शब्द के उत्तर में मैंने उसी दिन ‘जुमलाजीवी’ शब्द का उपयोग लोकसभा में किया था.’ शिवसेना सांसद प्रियंका चतुर्वेदी ने कटाक्ष करते हुए कहा, ‘अगर करें तो करें क्या, बोलें तो बोलें क्या? सिर्फ़, वाह मोदी जी वाह!’

कोई प्रतिबंध नहीं, मर्यादा में रखें बात : ओम बिरला

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने बृहस्पतिवार को बोला कि संसदीय कार्यवाही के दौरान किसी शब्द के प्रयोग को प्रतिबंधित नहीं किया गया है तथा सदस्य सदन की मर्यादा को ध्यान में रखते हुए अपने विचार व्यक्त करने के लिये स्वतंत्र हैं. नये टकराव पर बिरला ने कहा, ‘यह 1959 से जारी एक नियमित प्रथा है. किसी शब्द पर प्रतिबंध नहीं लगाया गया है. उन्होंने बोला कि संसदीय परिपाटियों से अनजान लोग कई तरह की टिप्पणियां करते हैं, विधायिकाएं गवर्नमेंट से स्वतंत्र होती हैं तथा सदस्य अपने विचार व्यक्त करने के लिए स्वतंत्र हैं.

सरकार बोली-हायतौबा से पहले सच जानें

विपक्ष के हंगामे के बीच गवर्नमेंट ने कहा, ‘यह नया सुझाव या आदेश नहीं है’ क्योंकि इन शब्दों को संसद और राज्य विधानसभाओं के पीठासीन ऑफिसरों द्वारा पहले ही कार्यवाही से बाहर निकाला जा चुका है. इन शब्दों को यूपीए गवर्नमेंट के कार्यकाल के दौरान भी असंसदीय माना गया था. सरकारी सूत्रों ने बोला कि विपक्ष ने वास्तविकता जाने बगैर हायतौबा मचा रखी है. सरकारी सूत्रों ने उल्लेख किया कि ऑस्ट्रलिया की संसद में ‘एब्यूज्ड’ (अपमानित या प्रताड़ित) शब्द को असंसदीय माना जाता है जबकि क्यूबेक की नेशनल एसेंबली में ‘चाइल्डिशनेस’ (बचकानापन) शब्द उपयोग नहीं होता है. उन्होंने बताया कि ‘बजट में लॉलीपॉप’ होने और ‘आप असत्य बोलकर यहां पहुंचे हैं’ जैसे वाक्यों या मुहावरों को पंजाब विधानसभा में कार्यवाही से बाहर किया गया था.