लड़कियाँ सेल्फी लेते समय क्यों बनाती हैं पाउट, आप भी जान लें असली वजह

लड़कियाँ सेल्फी लेते समय क्यों बनाती हैं पाउट, आप भी जान लें असली वजह

आजकल लड़कियों में सेल्फी का ट्रेंड बढ़ा है। बिना सेल्फी के लड़कियों का कोई पिकनिक पूरा ही नहीं होता है। आपने देखा होगा कि लड़कियां पाउट बनाकर अजीब-अजीब तरह के पोज़ देकर फोटो खींचवाती हैं। सेल्फी लेते समय लड़कियों का कैमरा ऑन होने से पहले उनका पाउट बनकर तैयार हो जाता है। लड़कों के मन में अक्सर इसको लेकर सवाल आते हैं कि आखिर लड़कियां पाउट क्यों बनाती हैं।

लड़कियाँ क्यों बनाती हैं पाउट

लड़कियां चाहती हैं कि वो दूसरी लड़कियों के मुकाबले ज्यादा खूबसूरत और एट्रेक्टिव लगे। इसके लिए वो सेल्फी लेते समय पाउट का सहारा लें। उन्हें लगता है कि वो पाउट बनाकर खुदको सबसे अलग दिखा सकती हैं। 


कुछ लड़कियां स्माइल की जगह पाउट फेस इसलिए बनाती हैं क्योंकि पाउट बनाते समय उनके चेहरे के फीचर्स जैसे-जौ लाइन, लिप्स और आईज़ हाइलाइट होती हैं। जो उनकी सेल्फी को एट्रेक्टिव और खूबसूरत बनाती है। 


कुछ लड़कियां सेल्फी लेते समय पाउट इसलिए बनाती है, क्योंकि आजकल सेल्फी के दौरान पाउट बनाना एक फैशन और ट्रेंड बन गया है। इसी ट्रेंड को फॉलो करने के लिए लड़कियां सेल्फी के दौरान पाउट बनाती हैं। 


नवरात्रों में माता आशीर्वाद पाने के लिए इन बातों का रखें ध्यान

नवरात्रों में माता आशीर्वाद पाने के लिए इन बातों का रखें ध्यान

अब श्राद पूरे होते ही नवरात्री प्रारम्भ हो जायेंगे। नवरात्रो में माँ दुर्गा के नौ रूपो की पूजा की जाती है। हमारे शास्त्रो में माँ दुर्गा के नौ रुपों के बारे में बताया गया है तथा इनकी पूजा के विशेष फल भी बताए गए हैं। अगर आप भी माँ दुर्गा की विशेष कृपा पाना चाहते है तो हम आपको सरल उपाय बता रहे है। 

इन बातों का रखें ध्यान:

# नवरात्री के नौ दिन माँ दुर्गा के नवार्ण मंत्र जाप करना चाहिए। अगर संभव तो नौ दिनों तक माता का व्रत रखें।

# माँ दुर्गा की पूजा में तुलसी और दूर्वा चढ़ाना निषेध माना गया है.इसलिए माँ की पूजा में इनका प्रयोग ना करे।

# माँ की पूजा करते वक़्त हमेशा लाल वस्त्र पहन कर माँ की पूजा करे। अपने घर के मंदिर को सजा कर फूलो से माँ की पूजा करे।

# देवी माँ के नाम से नौ दिनों तक घर में अखंड ज्योति की स्थापना करे। देवी माँ की पूजा में हमेशा लाल रंग आसान का ही प्रयोग करे और पूजा के बाद इस आसान को लपेट कर रख दे।

# माँ की पूजा में दूध और शहद का इस्तेमाल करे। पूजा के आखिरी दिन कन्या पूजन कर के व्रत की समाप्ति करे, क्योंकि बिना कन्या पूजन के माँ दुर्गा की पूजा पूर्ण नहीं मानी जाती है।