पति-पत्नी के बीच हो रहा छोटा-मोटा विवाद, तो ऐसे करे उसे कम

पति-पत्नी के बीच हो रहा छोटा-मोटा विवाद, तो ऐसे करे उसे कम

तालाबंदी के दौरान वर्क फ्रॉम होम करते हुए जो कपल्स घर में रह रहे हैं, उनके बीच तनाव के मुद्दे लगातार सामने आ रहे हैं.इसका हल पति-पत्नी दोनों वार्ता द्वारा ही निकाल सकते हैं. संवाद का ठीक उपाय ही आपके संबंध में बढ़ती दरार को कम कर सकता है. इसे अपनाकर देखें.

सही तरीका से रखें बात

कभी-कभी हम अपने साथी से उम्मीद करते हैं, कि वह हमारी बातों के पीछे छिपे हुए असल मतलब को समझे, लेकिन इस सोच पर निर्भर रहना या इसकी ख़्वाहिश भी रखना, हकीकत में उचित नहीं है. यह सोचने के बजाय आप अपने विचारों को सीधे तौर पर उनके सामने रखने की प्रयास करें. जब आप अपनी बात रखें, तो बातों के अर्थ को समझाने के लिए कुछ उदाहरण भी रखें, ताकि आपकी बोली जा रही बातों को आपका साथी ठीक अर्थ में समझ जाए. यदि वह समझ गया तो सारी समस्या हल हो जाएगी.

साथी की स्थान खुद को रखें

किसी विशेष हालात में आपके साथी का क्या दृष्टिकोण होगा, यह जानने के लिए आपको पहले खुद को उसकी स्थान पर रखकर अपनी कल्पनाशक्ति का प्रयोग करके अच्छा उसी की तरह से सोचना होगा. इस बात से भी वाकिफ रहें कि होने कि सम्भावना है, यहां पर कुछ ऐसी बातें भी हों, जिनके बारे में आपको कुछ भी जानकारी न हो. जब वह बोल रहा हो, तो एक बार उसके नजरिए से भी सोचने की प्रयास करें. इससे आपको यह समझने में सरलता होगी कि आपका व्यवहार या हालात उसे कितना परेशान कर रही है व क्यों?

विश्वास बनाए रखें

अपने साथी से वार्ता करने का मतलब यह नहीं है कि आप ऐसे पेश आएं जैसे किसी के साथ बिजनेस बैठक कर रहे हैं. ऐसे न दर्शाएं कि कमरे में आपका अधिकार चल रहा है, बल्कि इस हालात में जितना ज्यादा हो सके, एकदम अनुकूल होकर अपना आत्मविश्वास दर्शाएं. बीच-बीच में मुस्कुराएं, सावधानी से बोलें व बिल्कुल भी न हिचकिचाएं. यदि आपके साथी को आपकी भावनाओं पर जरा भी संदेह होगा तो वह आपकी बातों को गंभीरता से नहीं लेगा. अपनी बात को रोकर दर्शाने से हर हाल में बचें. इससे दोनों के बीच संवाद बेहतर नहीं होगा, बल्कि बात उलझ कर रह सकती है.

बॉडी लैंग्वेज पर ध्यान

सकारात्मक बॉडी लैंग्वेज चर्चा को भी सकारात्मक बनाने में मदद करेगी. साथी की ओर झुकाव रखें. अपने हाथों व आंखों को ठीक उपयोग करके बात आगे रखें.