सजा सुनाने वाली न्यायालय घोषित हुई असंवैधानिक, अब जाने कैसे मिलेगी मुशर्रफ को फांसी की सजा

सजा सुनाने वाली न्यायालय घोषित हुई असंवैधानिक, अब जाने कैसे मिलेगी मुशर्रफ को फांसी की सजा

पाकिस्तान स्थित लाहौर हाई कोर्ट ने सोमवार को उस विशेष न्यायालय को 'असंवैधानिक' घोषित कर दिया है, जिसने पाक के पूर्व सैन्य तानाशाह जनरल (सेवानिवृत्त) परवेज मुशर्रफ को संगीन देशद्रोह का दोषी करार देते हुए सज़ा-ए-मौत सुनाई थी। लाहौर हाई कोर्ट ने यह निर्णय मुशर्रफ द्वारा दाखिल याचिका पर सुनवाई के बाद दिया।

इसमें मुशर्रफ ने उन्हें दी गई सज़ा-ए-मौत को चुनौती देते हुए स्पेशल न्यायालय के गठन पर सवाल खड़ा किया था। न्यायालय ने बोला कि पूर्व राष्ट्रपति मुशर्रफ के विरूद्ध देशद्रोह का केस कानून के अनुसार नहीं चलाया गया। मुशर्रफ को इस मुद्दे में उच्चतम न्यायालय ने 17 दिसंबर 2019 को सज़ा-ए-मौत सुनाई थी। यह केस 2013 में तत्कालीन पाक मुस्लिम लीग (नवाज) सरकार द्वारा दाखिल कराया गया था।

मुशर्रफ ने अपनी याचिका में लाहौर हाई कोर्ट से आग्रह किया था कि वह 'संविधान के प्रावधानों के विरूद्ध होने की वजह से विशेष न्यायालय के निर्णय को निरस्त करे, गैरकानूनी व असंवैधानिक करार दे तथा क्षेत्राधिकार से बाहर जाकर दिया गया फैसला' घोषित करे। न्यायमूर्ति सैयद मजहर अली अकबर नकवी, न्यायमूर्ति मोहम्मद धनी भट्टी व न्यायमूर्ति मसूद जहांगीर ने मुशर्रफ की याचिका की सुनवाई की।