ड्रैगन का सबसे लंबा अंतरिक्ष मिशन, 90 दिन अंतरिक्ष स्टेशन में रहने के बाद लौटे चीनी अंतरिक्ष यात्री

ड्रैगन का सबसे लंबा अंतरिक्ष मिशन, 90 दिन अंतरिक्ष स्टेशन में रहने के बाद लौटे चीनी अंतरिक्ष यात्री

तीन चीनी अंतरिक्ष यात्री अपने देश के पहले अंतरिक्ष स्टेशन में 90 दिन बिताने के बाद शुक्रवार को धरती पर लौट आए हैं। यह चीन का अभी तक सबसे लंबा मिशन है। अंतरिक्ष स्टेशन से गुरुवार सुबह रवाना होने के बाद निए हैशेंग, लिउ बोमिंग और तांग होन्गबो अंतरिक्ष यान शेन्झोउ-12 में स्थानीय समय के अनुसार दोपहर बाद दिन के 1.35 बजे लैंड हुए। प्रसारित किए गए सीसीटीवी में गोबी रेगिस्तान में अंतरिक्ष यान की पैराशूटिंग का फुटेज दिखाया गया। कुछ देर बाद तकनीशियनों के एक दल ने कैप्सूल को खोलने का काम शुरू किया।

कैप्सूल को कोई नुकसान नहीं पहुंचा था। 17 जून को कमांडर निए और अंतरिक्ष यात्री लिउ एवं तांग दो स्पेस वाक के लिए गए थे। उन्होंने 10 मीटर लंबा मैकेनिकल आर्म लगाया और चीनी राष्ट्रपति और कम्युनिस्ट पार्टी के नेता शी चिनफिंग से वीडियो काल करके बातचीत की। चीन 2003 से 14 अंतरिक्ष यात्रियों को अंतरिक्ष में भेज चुका है। उस समय अंतरिक्ष में अपने यात्रियों को भेजने वाला चीन, तत्कालीन सोवियत संघ (रूस) और अमेरिका के बाद तीसरा देश बन गया था। सोवियत संघ और अमेरिका अपने दम पर यह सब कर रहे थे। अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन से बाहर किए जाने के बाद चीन ने अपना अंतरिक्ष स्टेशन कार्यक्रम तैयार किया।

इससे पहले, शेनझोउ-12 के री-एंट्री कैप्सूल के मुख्य पैराशूट को इनर मंगोलिया स्वायत्त क्षेत्र में सफलतापूर्वक उतारा गया। तीन अंतरिक्ष यात्रियों ने इस साल जून में अंतरिक्ष केंद्र के अनेक भागों का निर्माण करने के तीन महीने के मिशन पर अंतरिक्ष स्टेशन माड्यूल में प्रवेश किया। देश के हाल के मंगल और पिछले चंद्रमा मिशनों के बाद यह अंतरिक्ष चीन के लिए सबसे प्रतिष्ठित और रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण अंतरिक्ष परियोजना बन गया है। इस अंतरिक्ष स्टेशन के अगले साल तक तैयार होने की उम्मीद है। यह चीन का अब तक का सबसे लंबा मानव अंतरिक्ष मिशन है और लगभग पांच वर्षों में पहला है। एक बार तैयार होने के बाद, स्टेशन को चीन के करीबी सहयोगियों जैसे पाकिस्तान और अन्य अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष सहयोग भागीदारों के लिए खोले जाने की उम्मीद है।


इमरान खान को लगा बड़ा झटका, नवाज शरीफ की पार्टी में शामिल हुए पीटीआइ के वरिष्ठ नेता

इमरान खान को लगा बड़ा झटका, नवाज शरीफ की पार्टी में शामिल हुए पीटीआइ के वरिष्ठ नेता

देश में बढ़ती महंगाई को लेकर विपक्ष की आलोचना झेल रहे पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को एक और झटका लगा है। इमरान खान के नेतृत्व वाली पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआइ) के वरिष्ठ नेता कादिर बख्श कलमती ने पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। स्थानीय मीडिया के अनुसार, कादिर पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) में शामिल हो गए हैं।

एआरवाइ न्यूज ने बताया कि कादिर ने हाल ही में पीटीआइ से मलिर जिला अध्यक्ष के पद से इस्तीफा दे दिया और शनिवार को कराची के मलिर जिले में आयोजित एक जनसभा के दौरान पीएमएल-एन में शामिल हो गए। पार्टी के महासचिव अहसान इकबाल, पीएमएल-एन सिंध के महासचिव मिफ्ता इस्माइल, एमएनए खेल दास खोइस्तानी और पार्टी के अन्य नेताओं ने जनसभा में भाग लिया और रैली को संबोधित किया।


पीटीआइ से हाल ही में इस्तीफा देने वाले अध्यक्ष कादिर बख्श कलमती, वरिष्ठ नेता इनायत खट्टक और तारिक बलूच और अन्य पदाधिकारियों ने हलीम आदिल शेख पर पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के उम्मीदवार की जीत सुनिश्चित करने के लिए जानबूझकर पीएस-88 में एक कमजोर उम्मीदवार को मैदान में उतारने का आरोप लगाया था। पीएम-88 उपचुनाव में पीपीपी उम्मीदवार यूसुफ बलोच ने 24,000 से अधिक मतों से जीत हासिल की थी। इसमें पीटीआइ उम्मीदवार जंशेर जुनेजो और मुत्ताहिदा कौमी मूवमेंट-पाकिस्तान के उम्मीदवार साजिद अहमद को क्रमशः 4,870 और 2,634 वोट मिले थे।

इस कार्यक्रम में बोलते हुए पूर्व संघीय मंत्री अहसान इकबाल ने कहा, 'एमएलएन सुप्रीमो नवाज शरीफ का 'वोट को सम्मान दें' अभियान देश का सबसे लोकप्रिय नारा बन गया है और सभी चार प्रांतों में ये नारा गूंज रहा है। उन्होंने कहा कि अगर किसी समाज में व्यक्तियों की गरिमा को बहाल करना है तो वहां वोट का सम्मान किया जाना चाहिए। इससे पहले, पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ लरकाना अध्याय के नेता चंगेज अब्रो ने भी पार्टी से इस्तीफा देकर पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) में शामिल हो गए थे।