ब्रिटेन के पीएम जॉनसन पर चाइना ने लगाया इंटरनेशनल लॉ तोड़ने का आरोप

ब्रिटेन के पीएम जॉनसन पर चाइना ने लगाया इंटरनेशनल लॉ तोड़ने का आरोप

लंदन: ब्रिटेन के पीएम बोरिस जॉनसन (Boris Johnson) ने बोला है कि उनकी सरकार एक नया 'कानूनी रूट' तैयार करेगी जिसके तहत ब्रिटेन के उन नागरिकों को मदद होगी जो दूसरे राष्ट्रों में रह रहे हैं। इस नए प्रावधान के जरिए ये लोग ब्रिटेन में प्रवेश कर रह सकेंगे व कार्य कर सकेंगे। चाइना ने इस ऐलान को अपने ऊपर हमले की तरह लिया है व बोला है कि इस तरह के किसी भी नियम के वह विरूद्ध होगा व इसके लिए ब्रिटेन को खतरनाक परिणाम झेलने होंगे।

लंदन में चाइना के दूतावास की ओर से बोला गया- यदि ब्रिटेन की ओर से ऐसे किसी भी प्रकार के एकतरफा निर्णय लिए जाते हैं तो इससे उसकी स्थिति को नुकसान होगा। साथ ही अंतर्राष्ट्रीय कानून व अंतर्राष्ट्रीय संबंधों के बुनियादी मानदंडों को भी यह खत्म करेगा। दूतावास की ओर से यह भी कहा  गया कि- हम इसका कठोर विरोध करते हैं।

ब्रिटेन के पीएम बोरिस जॉनसन ने संसद में बोलते हुए बोला था- इस राष्ट्रीय सुरक्षा कानून को लागू करना स्पष्ट रूप से चीन-ब्रिटेन संयुक्त घोषणा-पत्र का गंभीर उल्लंघन है। यह हॉन्गकॉन्ग को मिली वृहद स्वयात्तता का भी उल्लंघन करता है। साथ ही यह हॉन्गकॉन्ग के मूल कानूनों के विरूद्ध है।

विदेश मंत्री डोमिनिक राब ने यूके सरकार की इस नीति को आगे ले जाते हुए बोला था कि हॉन्गकॉन्ग के ब्रिटिश नागरिक (विदेश) या बीएनओ पासपोर्ट धारकों को अब देश की नागरिकता देने की पेशकश की जाएगी। इसके तहत इन नागरिकों को पांच वर्ष के लिए बीएनओ दर्जा दिया जाएगा। इस पांच वर्ष की अवधि के बाद वे लोग स्थायी निवास के लिए आवेदन कर सकेंगे। साथ ही अगले 12 महीनों में स्थायी निवास दर्जे के बाद वे नागरिकता के लिए आवेदन कर सकेंगे।