तनाव के बीच अमरीका ने कोरोनवायरस से निपटने के लिए उत्तर कोरिया के सामने दोस्ती का बढ़ाया हाथ

तनाव के बीच अमरीका ने कोरोनवायरस से निपटने के लिए उत्तर कोरिया के सामने दोस्ती का बढ़ाया हाथ

वाशिंगटन. अमरीका ( America ) व उत्तर कोरिया ( North Korea ) में कई मामलों को लेकर चल रहे तनाव के बीच एक बड़ी समाचार सामने आई है. अमरीका ने उत्तर कोरिया के सामने दोस्ती का हाथ बढ़ाया है.

दरअसल, जानलेवा कोरोना वायरस ( Coronavirus ) से संसार के कई देश जूझ रहे हैं, लिहाजा कई देश एक-दूसरे को मदद की पेशकश कर रहे हैं. इसी कड़ी में अमरीका ने भी उत्तर कोरिया को कोरोना वायरस से निपटने के लिए ट्रंप प्रशासन ( Trump Government ) ने मदद की पेशकश की है.

बता दें कि अमरीका ने ऐसे समय में मदद की पेशकश की है, जब उत्‍तर कोरिया ने अमरीकी नागरिकों के लिए देश में सभी यात्रा पर प्रतिबंध लगा रखा है. इसके अतिरिक्त परमाणु प्रोग्राम को लेकर दोनों राष्ट्रों के बीच तनाव चरम पर है. लिहाजा इस पेशकश को बहुत ज्यादा अहम माना जा रहा है.

उत्तर कोरिया ने चीनी ट्रेन और विमान पर लागाई रोक

विदेश विभाग के प्रवक्ता मॉर्गन ऑर्टगस ने जानकारी साझा करते हुए बताया है कि अमरीका ने उत्‍तर कोरिया में कोरोना वायरस के प्रसार पर गहरी चिंता की है. यह वायरस चाइना के वुहान से प्रारम्भ होकर संसार के कई राष्ट्रों में फैला है व इसी कड़ी में उत्तर कोरिया भी पहुंचा है.

ऑर्टागस ने बोला कि उत्तर कोरिया में वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सहायता समूहों के प्रयासों को अमरीका समर्थन करता है.

बता दें कि कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए उत्तर कोरिया ने कई कदम उठाए हैं. कोरियाई शासक किम जोंग उन ने अपने मित्र देश चाइना से लौटने वाले सभी लोगों के लिए कड़े नियम बनाए हैं. ऐसे लोगों को निगरानी केंद्रों में रखा जा रहा है. साथ ही लोगों को सार्वजनिक स्थलों पर जाने से रोका गया है.

चीन: coronavirus s को लेकर अफ़वाह फैलाने वालों पर प्रशासन सख्त, दो गिरफ्तार

इतना ही नहीं उत्तर कोरिया ने चाइना से आने वाले विमान व ट्रेन पर भी रोक लगा दी है. जो भी विदेशी नागरिक उत्तर कोरिया आ रहा है उसके लिए एक सप्ताह तक आइसोलेशन वार्ड में रहना जरूरी कर दिया गया है.

मालूम हो कि जानलेवा कोरोना वायरस से चाइना में अब तक 1400 से अधिक लोगों की मृत्यु हो चुकी है, जबकि 60 हजार से अधिक लोग इससे संक्रमित हैं. संसार के करीब 30 से अधिक राष्ट्रों में ये वायरस फैल चुका है.