डिफाल्टर बनने की राह पर पाकिस्तान तो बाजवा ने संभाली कमान

डिफाल्टर बनने की राह पर पाकिस्तान तो बाजवा ने संभाली कमान

पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने अमेरिका से आईएमएफ पर ऋण की रकम जल्द जारी करने की बात की है. पाक इन दिनों भारी नकदी की कमी से जूझ रहा है और राष्ट्र घटते विदेशी मुद्रा भंडार की वजह से दिवालिया होने की कगार पर आ पहुंचा है.

पाकिस्तान लगातार अस्थिरता की ओर बढ़ता जा रहा है. पाक कंगाली के उस मुहाने पर खड़ा है जहां तानाशाही हावी होती नजर आ रही है. हाल ही में पाक के प्रांत पंजाब में हुए उपचुनाव के नतीजों ने सियासी अस्थिरता को तो बढ़ाया ही है, साथ ही सेना अस्थिरता की तरफ भी संकेत दे रही है. तंगहाली से जूझ रहे पाक को डिफाल्टर बनने से बचाने के लिए अब सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने कमर कस ली है. पाक के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा ने अमेरिका से आईएमएफ पर ऋण की रकम जल्द जारी करने की बात की है.  पाक इन दिनों भारी नकदी की कमी से जूझ रहा है और  राष्ट्र घटते विदेशी मुद्रा भंडार की वजह से दिवालिया होने की कगार पर आ पहुंचा है. हिन्दुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक जनरल बाजवा ने ऋण के लिए अमेरिका के ट्रेजरी डिपार्टमेंट से संपर्क साधा है. साथ ही ये गुहार लगाई है कि अमेरिका आईएमएफ पर 1.2 बिलियन $ के रीलिफ पैकेज की सप्लाई के लिए दबाव बनाए. निक्केई एशिया ने बताया कि बाजवा ने इस हफ्ते की आरंभ में अमेरिकी उप विदेश मंत्री वेंडी शेरमेन को टेलीफोन भी किया. लगभग 1.2 बिलियन अमेरिकी $ के कर्ज को जल्द से जल्द जारी करने के लिए आईएमएफ से बात करने की अपील की. पिछले सप्ताह आईएमएफ ने बोला था कि वह पाक के साथ 1.17 बिलियन $ के ऋण को लेकर स्टाफ लेवल की सहमति पर पहुंच चुका है. गौरतलब है कि पाकिस्तान पूरी तरह से कंगाली की तरफ बढ़ चुका है. पाक पूरी तरह से कंगाल हो चुका है लेकिन अभी उसकी सहायता करने वाले कुछ राष्ट्र बाकी हैं. पाक की जो भौगोलिक स्थिति है वो ऐसी है कि इससे कुछ लोगों को लाभ मिल जाता है. इसलिए उसे उधार मिल जाता है. इसलिए पाक उधार से ही अभी अपना काम चला रहा है. विश्व बैंक की कर्ज रिपोर्ट 2021 में पाक को हिंदुस्तान और बांग्लादेश के मुकाबले काफी खराब रेटिंग की गई थी