बालतोड़ के लिए अपनाएं ये घरेलु नुस्खे

बालतोड़ के लिए अपनाएं ये घरेलु नुस्खे

शरीर के हर हिस्से में कई छोटे-छोटे बाल होते है। कई बार शरीर के किसी हिस्से का बाल टूट जाने पर वहां घाव बन जाता है। इसके कारण आपको असहनीय दर्द और पीड़ा का सामना करना पड़ता है। ऐसे में इन घाव से छुटकारा पाने के लिए आप हार्मपुल दवाइयों का इस्तेमाल करते है। इसकी बजाए आप इन्हें कुछ घरेलू नुस्खें से भी दूर कर सकते है।

बालतोड़ के घरेलू नुस्खे:

एप्पल सिरका: एंटी-बैक्टीरिया एप्पल सलाइड सिरके को उबाल कर रोजाना बालतोड़ वाली जगहें पर लगाएं। इससे आपको दर्द से तुंरत आराम मिलेगा और घाव कुछ ही हफ्तों में गायब हो जाएगा।

एलोवेरा: बालतोड़ के घाव को ठीक करने के लिए एलोवेरा को घाव वाली जगहें पर मलें। इससे आपको जलन से राहत मिलेगी और घाव भी दूर हो जाएगा।

लहसुन: ताजा लहसुन को उबालने के बाद पीस कर घाव वाली जगहें पर लगाएं। इसमें मौजूद एंटी-माइक्रोबियल और एंटी-इंफलामेंटोरी गुण घाव को जल्दी ठीक करने में मदद करते है।

नीम: एंटी-बैक्टीरियल गुणों वाली नीम को पीस कर घाव वाली जगहें पर रोजाना लगाएं। एक हफ्ता नियमित रूप से इसका इस्तेमाल घाव को गायब कर देगा।

हल्दी: औषधिए गुमों वाली हल्दी को घाव प गलाने से कुछ ही हफ्तों में आराम मिल जाएगा। इसके अलावा दूध में हल्दी मिलाकर पीने से बालतोड़ दर्द से राहत मिलती है।


थाइराइड से है परेशान तो इन चीजों से करें परहेज

थाइराइड से है परेशान तो इन चीजों से करें परहेज

थाइराइड ही एक गंभीर बीमारी है। गले में तितली के आकार की ग्लैंड्स ग्रंथी से गड़बड़ी पैदा होने से यह रोग हो जाता है। इस रोग की अनदेखी करने से अस्थमा, कोलेस्ट्रॉल,डायबिटीड के अलावा सेहत से और भी बहुत सी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। इलाज के साथ-साथ थाइराइड के रोगी को कुछ चीजें खाने से भी परहेज करना जरूरी है।

 इन चीजों से रहें दूर: 

आयोडीन: आयोडीन की कमी कई रोगों का कारण है लेकिन थाइराइड के रोगी को आयोडीन से भरपूर आहार खाने से परहेेज करना जरूरी है। सी फूड,नमक के अलावा आयोडीन का आहार कम खाएं।

शराब: जिन लोगों को थाइराइड की परेशानी होती है, उनको एल्कोहल का सेवन नहीं करना चाहिए। इससे रात को नींद न आना,बेचैनी और घबराहट होने लगती है। इससे एनर्जी लेवल कम होने का खतरा भी रहता है। 

कैफीन: कैफीन यानि कॉफी,टॉफी,चॉकलेट,कोल्ड ड्रिक के अलावा कैफीन युक्त आहार खाने से परहेज करें। इससे थाइराइड के साथ-साथ सेहत से जुडी और भी परेशानी बढ़ सकती हैं। 

रेड मीट: बढ़ता वजन थाइराइड के लिए परेशानी का कारण है। रेड मीट में सेचुरेडेट फैट होता है जो वजन बढ़ाने का काम करता है। थाइराइड के रोगी को इसे खाने से दूर रहना जरूरी है। इससे जलन होने का भी डर रहता है। 

वनस्पति घी: वनस्पति घी बनाने के लिए इसमें कई तरह के पदार्थों की मिलावट की जाती हैं। जो सेहत को नुकसान पहुंचा सकती हैं। थाइराइड के रोगी के लिए यह हानिकारक हो सकता है। 


सर्दी जुखाम में फायदेमंद में है पीपल के पत्तों का काढ़ा       थाइराइड से है परेशान तो इन चीजों से करें परहेज       फ्लाइट में मिलने वाली चाय या कॉफी पीने से पहले जान लें ये खास बात       खड़े होकर पानी पीने से भी जन्म लेती है ये बीमारियां       दिल की बिमारियों में फायदेमंद है अदरक और पत्तागोभी       सोयाबीन के सेवन से बढ़ती है यूरिन कैसंर या इंफैक्शन की समस्या       हार्ट अटैक से बचाता है लाल मिर्च का सेवन       अगर गर्म चाय से जल गयी है जीभ तो करें ये इलाज       ब्रैस्ट कैंसर में फायदेमंद होता है लीची का सेवन       हार्ट अटैक की समस्या को दूर करती है बीयर       खाने के तुरंत बाद चाय पीने से हो सकती है शरीर में खून की कमी       जिम जाने से पहले इन चीजों का सेवन पहुँचा सकता है नुकशान       स्किन इंफेक्शन से निजात दिलाएगा प्याज का सेवन       कोरोना काल में घर बैठे-बैठे होने लगी है गैस की समस्या, तो...       यूरिन में होने वाली जलन और बवासीर के इलाज में फायदेमंद है चुकंदर       दालचीनी और शहद से ठीक हो सकती है कमर दर्द की समस्या       कभी भी फूँककर ना बुझाएं केक लगी मोमबत्तियां, जानें क्यों       क्या प्राइवेट पार्टस में इचिंग से निजात दिलाता है नमक का पानी       शरीर में ब्लड प्रैशर को कण्ट्रोल करता है काले जीरे का सेवन       खाँसी जुखाम में फायदेमंद है तुलसी का काढ़ा