जरूर जाने फूड एलर्जी से जुड़ी ये खास बातें

जरूर जाने फूड एलर्जी से जुड़ी ये खास बातें

फूड एलर्जी की समस्या यूं तो बच्चों में अधिक होती है लेकिन यह किसी भी आयु में हो सकती है. यह समस्या 40 वर्ष से कम आयु के लोगों में ज्यादा देखी जाती है. कुछ सावधानियां बरतकर आप इस कठिनाई से बच सकते हैं.

क्यों होती है फूड एलर्जी -

किसी खाद्य पदार्थ के प्रति शरीर की प्रतिशोध रिएक्शन है जो बहुत ज्यादा गंभीर होती है व कभी-कभी जानलेवा भी. इसके लक्षणों में शरीर पर लाल चकत्ते, खुजली व उल्टी की समस्या प्रमुख हैं. कई बार उल्टी होने पर लोग इसे फूड पॉइजनिंग भी मान लेते हैं इसलिए हर बार किसी एक ही वस्तु को खाने से आपको उल्टी हो तो इसे हल्के में ना लें व फौरन अपने चिकित्सक से सम्पर्क करें.

इन उत्पादों से एलर्जी ज्यादा-
एलर्जन खाने में उपस्थित वे तत्व होते हैं जो एलर्जिक रिएक्शन को बढ़ावा देते हैं. वैसे तो किसी भी वस्तु से एलर्जी हो सकती है लेकिन गेहूं, राई, बाजरा, मछली, अंडे, मूंगफली, सोयाबीन, दूध से बने उत्पाद व सूखे मेवे जैसे कुछ विशेष खाद्य पदार्थों से फूड एलर्जी ज्यादा होती है क्योंकि इनमें ग्लूटेन होता है.

टेस्ट से पता करें-
यह समस्या होने पर डॉक्टरी सलाह से फूड एलर्जी टेस्ट कराना चाहिए. इसे किसी भी प्रयोगशाला में कराया जा सकता है जिसमें 3-6 हजार रुपए तक का खर्चा आता है. रिपोर्ट में पता चलने पर कि किस खाद्य पदार्थ से एलर्जी है, चिकित्सक आपको उससे परहेज करने के लिए कहते हैं. साथ ही आपको ऐसे अन्य खाद्य पदार्थों को खाने की सलाह भी दी जाती है जिससे कि एलर्जिक फूड के पोषक तत्वों की भरपाई हो जाए.

पांच वर्ष की आयु तक परहेज-
जिन बच्चों को दूध, अंडे, गेहूं व सोयाबीन से एलर्जी है अगर वह पांच वर्ष की आयु तक इन चीजों को ना खाएं तो बाद में यह समस्या समाप्त हो सकती है. लेकिन मूंगफली, सूखे मेवे की एलर्जी सारी आयु रहती है. जिन्हें लैक्टोज से एलर्जी है वह सोया मिल्क ले सकते हैं.

जानकार की राय-
डाइटीशियन के अनुसार अगर आपको फूड एलर्जी है तो उस वस्तु से बनी चीजों से भी पूरी तरह से परहेज करना चाहिए. जैसे अगर आप रेस्तरां या किसी पार्टी में खाना खा रहे हैं व आपको पत्तागोभी से परहेज करना है तो पावभाजी, मंचूरियन, बर्गर, हॉट डॉग या मोमोज आदि खाने से परहेज करें. इस समस्या में मेडिसिन ट्रीटमेंट के बजाय बेहतर है कि आप एलर्जिक फूड से पूरी तरह से परहेज करें.