केला ही नहीं इसके छिलके भी होते हैं लाभदायक

केला ही नहीं इसके छिलके भी होते हैं लाभदायक

केला तो गुणों से भरपूर है ही लेकिन इसका छिलका भी कुछ कम नहीं आज हम आपको केले के छिलके के बारे में कुछ ऐसे ही उपयोगी टिप्स बताने जा रहे है जिससे आप दुबारा कभी केले का छिलका फेंकने की नहीं सोचेंगे-

1. अगर आपके दाँत पीले होकर अपनी चमक खो चुके है तो केले के छिलके को दाँत पर रगड़े ऐसा दिन में दो बार करें, ऐसा रोज़ करने से कुछ ही दिनों में दांतो का पीला पन दूर हो जाहेगा और चमक वापिस लौट आएगी।

2. केले का छिलका और केला दोनों ही चेहरे में रंगत लाता है और इसमें प्राकृतिक नमी होती है जो कि चेहरे को एलर्जी, मुंहासों, पिंपल्स और इंफेक्शन से दूर रखता है, केले के छिलके में स्टार्च होता है, जो कि स्किन पोर्स से अतिरिक्त ऑयल निकाल देता है, ब्लॉकऐज को भी खत्म करने में भी यह काफी मददगार होता है। केले के छिलके को चेहरे पर लगाए मुंहासों से छुटकारा मिलेगा।

3. यदि आपके चेहरे या किसी और जगह मस्सा हो गया है तो आप उससे केले के छिलके का इस्तेमाल करके हटा सकते हैं । आपको रोजाना रात को सोने से पहले छिलके को कुछ देर आपने अपने मस्से पर लगाए और सो जाए कुछ ही दिनों में मसा झड़ जाहेगा।

4. केले के छिलको की मदद से आप अपने जूते भी चमका सकतें है।

5. केले के छिलके को त्वचा पर लगाने से त्वचा में पानी की कमी पूरी होती है। इसके सही तरह से उपयोग के लिये अंडे की जर्दी में केले के छिलके (पीसकर) मिलाकर चेहरे पर लगाएं, और फिर कुछ मिनटों बाद धो लें। इससे झुर्रियां दूर होंगी और त्वचा पर निखार आएगा।

6. अगर किसी कीड़े ने काट लिया हो, तो उस स्थान पर केले के छिलके को पीसकर लगा लें, इससे आराम मिलता है।

7. केले का छिलका आखों की यूवी किरणों से रक्षा करता है। आंखों पर केले के छिलके को थोड़ी देर के लिए रख लें। इससे राहत मिलेगी।


मोबाइल पर ज्यादा समय बिताने से बच्चे हो रहे ओवर डेवलपमेंट का शिकार ; जानिए क्या हैं इससे बचने के तरीके

मोबाइल पर ज्यादा समय बिताने से बच्चे हो रहे ओवर डेवलपमेंट का शिकार ; जानिए क्या हैं इससे बचने के तरीके

आजकल बच्चे क्लास के अलावा असाइनमेंट, रिसर्च और एंटरटेनमेंट के लिए मोबाइल या लैपटॉप का इस्तेमाल करते हैं। इससे उनका स्क्रीन टाइम कहीं ज्यादा बढ़ गया है। बच्चों का मोबाइल के साथ ज्यादा वक्त बिताने से उन पर नेगेटिव असर हो रहा है।

मोबाइल का ज्यादा इस्तेमाल बच्चों की लाइफ स्टाइल में बदलाव ला रहा है जिससे उनमें मोटापा, भूख कम लगना, चिड़चिड़ेपन के अलावा बच्चों के ओवर डेवलपमेंट होने जैसी परेशानियां सामने आ रही हैं। ओवर डेवलपमेंट यानी बच्चे का अपनी उम्र के लिहाज से ज्यादा डेवलप होना। चूंकि बच्चे मोबाइल में कुछ भी देख सकते हैं, इसलिए उम्र के लिहाज से उन्हें जितनी इन्फॉर्मेशन लेनी चाहिए, वो उससे ज्यादा कन्ज्यूम कर रहे हैं।

ज्यादा समय वर्चुअल वर्ल्ड यानी स्क्रीन के सामने बिताने से बच्चे स्पोर्ट्स, फिजिकल एक्टिविटी, लोगों से इंटरैक्ट करने और लाइफ में काम आने वाली कई स्किल्स सीखने में ज्यादा समय नहीं देते, जिससे उनके ओवरऑल डेवेलपमेंट पर असर पड़ता है।