रोज 100 ग्राम पनीर खाने के इतने फायदे जानकर हैरान हो जाएंगे आप

रोज 100 ग्राम पनीर खाने के इतने फायदे जानकर हैरान हो  जाएंगे आप

पनीर या पनीर का व्यंजन भारतीय रसोई की शान माना जाता है. ये सिर्फ जायकेदार ही नहीं होता बल्कि बहुत स्वास्थ्य वर्धक भी होता है. यदि आप पनीर के कई लाभों को नहीं जानते हैं, तो समय आ गया है कि आपको पता चले कि प्रोटीन, फैट, कार्बोहाइड्रेट, ऊर्जा, फोलेट, कैल्शियम, फास्फोरस से युक्त पनीर आपकी स्वास्थ्य के लिए कितना लाभकारी है. आइए जानते हैं पनीर खाने के सेहतभरे फायदों के बारे में:-

रिच इन प्रोटीन
पनीर प्रोटीन का एक बड़ा स्रोत है.इसमें लोह के, लगभग सभी आवश्यक खनिज उपस्थित होते हैं. 100 ग्राम पनीर में 11 ग्राम प्रोटीन होता है. गौ माता के दूध से निकला हुआ पनीर प्रोटीन का एक समृद्ध स्रोत है जिसे आप स्वास्थ्य वर्धक रहने के लिए खा सकते हैं. यह आपकी मसल्स मजबूत करने के साथ फैट की चर्बी घटाने में भी मदद करेगा.

हड्डियों व दांत को मजबूत करता है
पनीर कैल्शियम के सर्वोत्तम स्रोतों में से एक है. विशेषज्ञों का बोलना है कि पनीर का सेवन आपके शरीर में कैल्शियम की पूर्ति कर हड्डियों व दांतों को मजबूत बनाता है. इसका सेवन दिल की मांसपेशियों को
भी मजबूत करता है.

रक्त शर्करा के स्तर को बनाए रखता है
पनीर रक्त शर्करा के स्तर को भी विनियमित करने में मदद कर सकता है. पनीर मैग्नीशियम होने के कारण यह न केवल असामयिक स्पाइक्स की जाँच कर सकता है, बल्कि बेहतर दिल स्वास्थ्य व प्रतिरक्षा प्रणाली भी सुनिश्चित कर सकता है. पनीर का उच्च प्रोटीन घटक भी रक्त में शर्करा की धीमी गति को जारी रखने में मदद करता है व रक्त शर्करा के स्तर में आकस्मित वृद्धि व गिरावट को रोकता है.

दिल की स्वास्थ्य के लिए अच्छा है
पनीर आपके दिल के स्वास्थ्य के लिए भी लाभकारी है. पनीर में पोटेशियम होता है जो शरीर के द्रव संतुलन में जरूरी किरदार निभाने के लिए जाना जाता है. आपके गुर्दे आपके शरीर में संग्रहीत द्रव की मात्रा को नियंत्रित करके आपके रक्तचाप को प्रबंधित करने में जरूरी किरदार निभाते हैं. सीधी सी बात है, जितना अधिक तरल, उतना अधिक दबाव. पोटेशियम न केवल आदर्श द्रव संतुलन को विनियमित करने में मदद करता है, बल्कि बहुत अधिक नमक के प्रभावों को भी कम करता है. हालांकि इसके लिए आपके पनीर में ज्यादा नमक नहीं होना चाहिए.

पाचन में सुधार
पनीर भी पाचन में सहायता कर सकता है. इसमें फॉस्फोरस की आदर्श मात्रा होती है जो पाचन व उत्सर्जन में मदद करता है. पनीर में उपस्थित मैग्नीशियम भी कब्ज को रोक सकता है. मैग्नीशियम का एक रेचक असर है. इसका मतलब है कि यह मल में पानी खींचता है, जिससे वह नरम हो जाता है व आंतों की दीवारों से उसका गुजरना सरल हो जाता है.

रिच सोर्स ऑफ फोलेट
पनीर फोलेट का रिच सोर्स है. फोलेट एक बी-कॉम्प्लेक्स विटामिन है जो गर्भवती स्त्रियों के लिए बहुत आवश्यक है. फोलेट माताओं की अपेक्षा में भ्रूण के विकास में ज्यादा मदद करता है. इसके अलावा, लाल रक्त कोशिकाओं के उत्पादन में भी फोलेट एक जरूरी किरदार निभाता है.

वजन कम करता है
प्रोटीन से भरपूर पनीर आपको लंबे समय तक भूख का अहसास नहीं होने देता है. प्रोटीन से भरपूर होने के अलावा, पनीर संयुग्मित लिनोलिक एसिड का भी समृद्ध स्रोत है. यह फैटी एसिड शरीर में वसा जलने की प्रक्रिया को बढ़ाने में मदद करता है. वजन कम करने के लिए आप कच्चा पनीर खा सकते हैं.