जानिए क्या हैं आहार चिकित्सा? कैसे मिलता हैं स्वास्थ को लाभ

जानिए क्या हैं आहार चिकित्सा? कैसे मिलता हैं स्वास्थ को लाभ

रक्त में शुगर की मात्रा बढऩे को डायबिटीज कहते हैं. जानते हैं इसके कारण और इलाज के बारे में.

कारण: इंसुलिन हार्मोन का स्राव कम होने से, असंतुलित भोजन व व्यायाम की कमी.
लक्षण: बार-बार पेशाब आना व ज्यादा भूख लगना,घाव को भरने में समय लगना, वजन घटना व स्कीन पर फोड़े-फुंसी और एलर्जी.

आहार चिकित्सा: प्रातः काल उठते ही 2-3 गिलास पानी बैठकर पीएं. इससे शरीर से विषैले पदार्थ निकल जाते हैं. एक घंटे बाद आधा कप गिलोय का जूस या दानामेथी पानी (आधा गिलास पानी में दो चम्मच दानामेथी को रात में भिगोकर, प्रातः काल हल्का गुनगुना कर) पीएं. हल्का नाश्ता करें व सप्ताह में दो दिन करेले का जूस पीएं.

नेचुरोपैथी-
लंच में मोटे आटे की 2 रोटी, हरी सब्जी ( कम मिर्च-मसाले और नमक वाली) अंकुरित दानामेथी का सलाद और छाछ लें. डिनर में दो चपाती, सब्जी, मिक्स वेज सूप व सलाद खाएं. सोने से पहले एक गिलास फीका दूध जरूर लें.
व्यायाम: खाली पेट आधा घंटा खुली हवा में सैर करें व प्रशिक्षक की सलाह से योगा करें.