पानी पीने के ढंग में करें ये बहुत महत्वपूर्ण बदलाव रहेंगे हमेशा के लिए फिट

पानी पीने के ढंग में करें ये बहुत महत्वपूर्ण बदलाव रहेंगे हमेशा के लिए फिट

नयी दिल्ली: सभी जानते हैं कि पानी हमारे शरीर के लिए बहुत उपयोगी होता है। शरीर को ठीक ढंग से हाइड्रेट (Hydrate) रखने के लिए पानी पीना (Drinking Water) सबसे जरूरी होता है। पर्याप्‍त मात्रा में पानी पीने से फैट की चर्बी (Fat) की समस्‍या नहीं होती है व न ही पेट से संबंधी कोई रोग होते हैं। लोग पानी कभी भी कैसे भी पी लेते हैं। जिससे कई तरह की कठिनाई होती है। लेकिन ये जानकर आपको हैरानी होगी कि पानी पीने का भी ठीक समय व उपाय होता है। पानी को कैसे पिएं जिससे शरीर हाइड्रेटेड रहे व महत्वपूर्ण लाभ पहुंचाए। तो आइए जानते हैं

कैसे पानी पीना चाहिए? 
आयुर्वेद के अनुसार, पानी कभी भी हमें गट-गट करके या एक ही सांस में नहीं पीना चाहिए क्योंकि पानी पीने के दौरान हमारा लार पानी के साथ मिलकर हमारे शरीर के अंदर जाती है। लार ही हमारे पाचन तंत्र को मजबूत करने का काम करती है। लार में कई ऐसे हेल्‍दी बैक्‍टीरिया होते हैं तो पेट के लिए लाभकारी होते हैं। इसीलिए पानी हमेशा धीरे-धीरे या घूंट-घूंट कर के पीना ठीक माना गया है।

खड़े होकर पानी पीना नुकसानदेह
आयुर्वेद और शोधर्तोओं के अनुसार पानी कभी भी खड़े होकर नहीं पीना चाहिए। अगर आप खड़े होकर पानी पीते हैं, तो पानी सीधे और तेजी से पेट के निचले हिस्से में चला जाता है। जिससे शरीर को पानी के पर्याप्त मात्रा में पोषक तत्व नहीं मिल पाते हैं। इस तरह पानी पीने से घुटनों में दर्द की समस्‍या हो सकती है। पाचन संबंधी समस्‍याएं हो सकती हैं। हाइड्रेटेड रहने में बाधा उत्‍पन्‍न हो सकती है।

पानी पीने के ठीक तरीके
-हो सके तो सीधे बोतल से पानी पीने से बचें व गिलास में ही पानी डालकर पिएं।
-जब बीमार पड़ें तो खूब पानी पिएं।

पानी पीने का ठीक समय
- प्रातः काल उठने के बाद दो गिलास पानी पीना चाहिए।
- भोजन करने से करीब आधा घंटा पहले पानी पीना चाहिए, इससे खाना सरलता से पचता है। भोजन करने के आधे घंटे तक पानी के सेवन से बचें।
-सोने से पहले पानी पिएं। ऐसा करने से हार्ट अटैक का खतरा कम होता है।
- एक्सरसाइज़ करने से पहले व बाद में एक गिलास पानी पीने से डिहाइड्रेशन की समस्या नहीं होती। साथ ही एक्सरसाइज़ के बाद जो पसीना आता है पानी उसकी कमी पूरी करता है।