वैक्सीन नहीं कोरोना वायरस से बेहतर बचाव करेंगे मास्क!

वैक्सीन नहीं कोरोना वायरस से बेहतर बचाव करेंगे मास्क!

कोरोना वायरस महामारी के कुछ महीनों बाद से ही कई वैक्सीन के लॉन्च होने की बात हम सुनते आ रहे हैं। हम सभी ये ज़रूर चाहते हैं कि वैक्सीन जल्द से जल्द आए, लेकिन साथ ही इस बात को लेकर चिंतित भी हैं कि वह कितनी सुरक्षित और कारगर साबित होगी। हम ये जानते हैं कि जो वैक्सीन सबसे पहले आएगी वो अधिक सुरक्षा प्रदान नहीं करेगी। साथ ही पूरी दुनिया के सभी लोगों को वैक्सीन मिलने में दो से तीन साल लग जाएंगे।    

हाल ही में वैक्सीन से जुड़े कई साइड-इफेक्ट्स सामने आए हैं, फिर चाहे वो ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राज़ेनेका की वैक्सीन हो या फिर रूस की। जिसकी वजह से लोगों के बीच इसको लेकर डर बढ़ गया है। साथ ही अभी ये भी साफ नहीं है कि सिर्फ एक वैक्सीन मानव जाति को कयामत से बचाने में सक्षम होगी या नहीं। अभी आने वाले कई सालों तक हमें शारीरिक दूरी, साफ-सफाई और मास्क पहनना जारी रखना होगा।

सीडीसी यानी डायरेक्टर्स ऑफ सेंटर फॉर डिज़ीज़ कंट्रोल एंड प्रीवेंशन ने इस परेशानी को और बढ़ा दिया है। सीडीसी के डायरेक्टर रॉबर्ट रेडफील्ड ने कबा कि वैक्सीन कुछ हद तक इस वायरस से हमें बचाने में मदद करेगी, लेकिन इससे बेहतर सुरक्षित आपके फेस मास्क प्रदान कर रहे हैं। इसलिए कोरोना से बचने के लिए सावधानियां बरतनी बेहद ज़रूरी हैं।

क्या वैक्सीन से बेहतर विकल्प हैं मास्क?

मास्क और वैक्सीन दो बिल्कुल अलग चीज़ें हैं और अलग से काम भी करते हैं। इन दोनों की तुलना सही नहीं है, लेकिन इस वक्त महामारी को रोकने के लिए मास्क का उपयोग हमारी काफी मदद कर सकता है। वास्तव में, मास्क का उपयोग करने से भविष्य में वैक्सीन बनाने वालों का काम आसान हो सकता है।

शुरुआती वैक्सीन सबसे सुरक्षित नहीं होगी। उससे होने वाले साइड-इफेक्ट्स के दुष्प्रभावों का जोखिम हमेशा बना रहेगा। इस वक्त ऐसी वैक्सीन की उम्मीद करना जो बिलकुल कारगर साबित हो, मुमकिन नहीं है। 

इसकी तुलना में, अभी उपलब्ध मास्क ज्यादातर सुरक्षित हैं और उपयोग करने के लिए बहुत कम सटीकता की आवश्यकता होती है। मास्क का वितरण और उपयोग करना भी सस्ता है, वहीं शुरुआती वैक्सीन को उपलब्ध कराने की तुलना में मास्क अधिक किफायती हैं।

मास्क पहनना सबसे सुरक्षित और संक्रमण के जोखिम से बचाव का सबसे अच्छा तरीका हो सकता है। यहां तक कि मास्क हर उम्र के इंसान के लिए फायदेमंद है। 

मास्क कितनी सुरक्षा दे सकते हैं?

सीडीसी के दिशानिर्देश बताते हैं कि मास्क पहनना कोरोना वायरस के संक्रमण का जोखिम काफी कम हो जाता है। मास्क का उपयोग प्रभावी ढंग से लार की मात्रा को कम करता है, खासकर जब कोई कमरे में खांसता या छींकता है। इसका मतलब ये हुआ कि अगर बीमार लोग मास्क पहनते हैं, तो बाकी सभी लोग बेहतर तरीके से सुरक्षित रहेंगे।

लेकिन ये भी ज़रूरी है कि आप मास्क सही तरीके से पहन रहे हों, यानि मास्क किस तरह का है, ढीला तो नहीं है और चेहरे पर अच्छे से फिट हो रहा है या नहीं। मास्क कोरोना को फैलने से रोकने में कुछ हद तक मदद कर सकता है। मास्क पहनने से अलक्षणी लोगों से भी संक्रमण का ख़तरा कम हो जाता है।

इसलिए, आप चाहे बीमार हैं या नहीं, या लक्षण दिख रहे हैं या नहीं, मास्क पहनना आपके लिए फायदेमंद हो सकता है।


कमर की चर्बी कम करने के साथ ही पाचन भी दुरुस्त रखेगा कटिचक्रासन

कमर की चर्बी कम करने के साथ ही पाचन भी दुरुस्त रखेगा कटिचक्रासन

फैट बॉडी के किसी भी हिस्से में हो खूबसूरती को कम ही करता है। बढ़ता फैट ना सिर्फ देखने में भद्दा लगता है, बल्कि सेहत के लिए यह नुकसानदायक है। वज़न को कम करने के लिए हम लोग तरह-तरह के फंडे अज़माते हैं। लेडीज हो या जेंट्स पतली कमर हर किसी को अच्छी लगती है। पतली कमर और मजबूत कंधे आप योग के जरिए हासिल कर सकते है। कटिचक्रासन एक ऐसा योगा है जो ना सिर्फ कमर को पतला करता है बल्कि गर्दन और पीठ की जकड़न को भी दूर करता है। इस योगा को करने से ना सिर्फ आलस दूर होता है बल्कि शरीर में हल्कापन भी महसूस होता है। यह योगा कमर की चर्बी को कम करता है, बल्कि कब्ज व गैस की समस्या भी दूर करता है। ये किडनी, लीवर, आंतों व पैन्क्रियाज की सेहत का भी ख्याल रखता है। आइए जानते हैं कि कटिचक्रासन क्या है और इसे किस तरह किया जाएं और इसके कौन-कौन से फायदे हैं।

कटिचक्रासन क्या है?


कटिचक्रासन एक योग है जोकि तीन शब्दों से मिलकर बना है कटि + चक्र + आसन। इस आसने से दोनों भुजाओं, गर्दन और कमर की एक्सरसाइज होती है। यह आसन खड़े होकर किया जाता है। इस आसन को सुबह और शाम दिन में दो बार खाली पेट करें। आइए जानते हैं कि इस आसन को कैसे करें

पहला स्टैप :- सबसे पहले सावधान अवस्था में खड़े हो जाएं

दूसरा स्टैप:- इस तरह से खड़े हो ताकि दोनों पैरों के बीच डेढ़ से दो फुट की दूरी बन सके


तीसरा स्टैप :- अब अपने कंधों की सीध में दोनों हाथों को फैलाएं। इसके बाद बाएं हाथ को दाएं कंधे पर रखें और दाएं हाथ को पीछे से बाईं ओर लाकर धड़ से लपेटे।

चौथा स्टैप :- सांस क्रिया सामान्य रूप से करते हुए मुंह को घुमाकर बाएं कंधों की सीध में ले आएं।

पांचवा स्टैप :- अब इस स्थिति में कुछ समय तक खड़े रहें और फिर दाईं तरफ से भी इस क्रिया को इसी तरह से करें।


छटा स्टैप :- इस क्रिया को दोनों हाथों से 4-4- बार करें।

कटिचक्रासन के फायदे


पेट और कमर की चर्बी को कम करता है ये आसन।
कब्ज और एसिडिटी से निजात दिलाता है ये आसन।
ये योगा शुगर और ब्लड प्रेशर के मरीजों के लिए बेहद फायदेमंद है।
तनाव को कम करता है ये योगा। मानसिक तनाव से मुक्ति पाने के लिए ये आसन बहुत ही फायदेमंद है।


Tiger 3: सलमान खान, कटरीना कैफ और इमरान हाशमी ने पूजा में लिया भाग       Alaya Furniturewalla रुमर्ड बॉयफ्रेंड ऐश्वर्य ठाकरे के साथ फिर आई नजर       जब सबके सामने आलिया भट्ट-रणबीर कपूर गलती से करने वाले थे लिप-लॉक       इस एक्टर के खिलाफ जारी हुआ नोटिस, फिल्म 'रुस्तम' से जुड़ा हुआ है मामला       इस एक्ट्रेस की हमशक्ल निकली पाकिस्तानी महिला आमना इमरान       कोरोना से संक्रमित गर्भवती महिलाओं को नहीं है स्टिलबर्थ या गर्भपात का ख़तरा अधिक       कमर की चर्बी कम करने के साथ ही पाचन भी दुरुस्त रखेगा कटिचक्रासन       इन गलतियों के चलते नहीं बढ़ते हैं आपके बाल, अपनाएं ये उपाय       इम्यूनिटी बढ़ाने के साथ ही हड्डियों को मजबूत करता है नारियल       वज़न कंट्रोल करने से लेकर दिल की सेहत का भी ख़्याल रखता है गुलकंद       हफ्ते में कितनी बार वजन नापना सही होता है, जानें       तेजी से वज़न कम कर रहे हैं तो उसके साइड इफेक्ट भी जान लीजिए नहीं तो...       तनाव के लिए रामबाण दवा है पुदीना, इस तरह से करें इस्तेमाल       अस्थमा और हायपरटेंशन के मरीज रोजाना करें यह योगासन, जानें       प्रदूषण की वजह से बढ़ रही हैं फेफड़ों से जुड़ी बीमारियां       Coronavirus Vaccination: अपने परिवार के लिए कोरोना वैक्सीन की तलाश कर रही हैं ये एक्ट्रेस       Happy Birthday Urvashi Rautela, 27 वर्ष की हुईं उर्वशी रौटेला       Gangubai Kathiawadi: महज 500 रुपए में बेचा पति ने, माफिया डॉन को बांधी राखी, जानें       कपड़े संभालते हुए रोड पर भागती दिखीं मलाइका अरोड़ा, बोलीं...       इस एक्ट्रेस ने फिल्म इंडस्ट्री में किए इतने साल पूरे, नेपोटिज्म को लेकर कही ये बात