पीएम नरेंद्र मोदी से कविता कौशिक ने की अपील, कहा- ट्रोलर्स आपकी फोटो लगाकर लड़कियों को गालियां देते हैं

पीएम नरेंद्र मोदी से कविता कौशिक ने की अपील, कहा- ट्रोलर्स आपकी फोटो लगाकर लड़कियों को गालियां देते हैं

टीवी एक्ट्रेस ने देश के पीएम नरेंद्र मोदी से गुहार लगाई है. उन्होंने सोशल मीडिया पर अपना एक वीडियो पोस्ट किया है. इसके माध्यम से उन्होंने बताने की प्रयास की है कि देश में बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ अभियान की सच कुछ व ही है. उनका बोलना है कि सोशल मीडिया पर एक ट्रोल करने वाला गैंग है, जो लोगों को टारगेट करते हैं व उन्हें ट्रोल करते हैं. कविता ने प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी से ये सब कुछ रुकवाने की अपील की है. 

वीडियो में एक्ट्रेस ने कहा, 'मेरा नाम कविता कौशिक है व मैं इस देश की जिम्मेदार नागरिक हूं. इसी हक से मैं आपसे एक गुहार लगाना चाहती हूं. मोदीजी आपका बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ व स्वच्छ हिंदुस्तान अभियान ये सब सुनकर मन में बहुत अच्छी आशा जागी कथी. लेकिन सच्चाई को कुछ व ही समझ में आ रही है. मैं आपको इस बात से अवगत कराना चाहती हूं क्योंकि शायद आपको पता नहीं है कि सोशल मीडिया पर बहुत बड़ी ट्रोल आर्मी है.'

कविता ने आगे कहा,  'ये लोग आपकी फोटो लगाकर क्लेम करते हैं कि आप भी उन्हें अनुसरण भी करते हैं. इसके अतिरिक्त इन लोगों ने हमारे हिंदू धर्म के तमाम देवी देवताओं की फोटो लगाकर सोशल मीडिया पर एकाउंट बना रखा है. अगर कोई भी सरकार या फिर सिस्टम के विरूद्ध बातें करता है तो ये लोग उन्हें गालियां देते हैं. इसके अतिरिक्त ये लोग औरतों व लड़कियों को गालियां देते हैं व उन्हें ट्रोल करते हैं.

इसके बाद कविता ने बोला कि इस समय देश में लॉकडाउन है तो ऐसे में लोगों को आपस में मिलकर रहना चाहिए. एक दूसरे को तरह तरह के एडवाइज देने चाहिए ताकि लोग घर पर रह सकें. उन्हें डिप्रेशन न हो. इस ढंग की बातें करनी चाहिए. 

इसके आगे एक्ट्रेस ने अपने वीडियो में कहा, 'कुछ नेता रामायण देखते हुए अपनी फोटो सोशल मीडिया पर शेयर कर रहे हैं. ये बच्चों वाली चीजें हैं, क्योंकि ये वक्त नेताओं के लिए, जिन्हें हमने चुना है उनके लिए जांबाजी दिखाने का है. कुछ तो ऐसा करें, जिससे हमें भरोसा हो कि हमारे लिए कुछ हो रहा है.' उन्होंने वीडियो के कैप्शन में लिखा, 'आदरणीय पीएम से मेरी एक अपील है कि वह सभी स्त्रियों को सुरक्षा प्रदान करें. इसके साथ ही कविता ने अभद्रता व गुंडागर्दी को रुकवाने की बात कही.