महंगाई की मार ने छोटे दुकानदारों और उत्पादकों को कारोबार समेटने पर किया विवश

महंगाई की मार ने छोटे दुकानदारों और उत्पादकों को कारोबार समेटने पर किया विवश
खाने-पीने की वस्तुओं की बढ़ती महंगाई ने छोटे दुकानदारों और उत्पादकों को कारोबार समेटने पर विवश कर दिया है. रिटेल इंटेलीजेंट प्लेटफॉर्म बाइजॉम और वैश्विक फर्म नील्सन ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया है कि नवंबर में 6 प्रतिशत छोटे दुकानदार मार्केट से गायब हो गए, जबकि 14 प्रतिशत उत्पादकों ने भी ताला लगा दिया है.

रिपोर्ट के मुताबिक, अक्तूबर तिमाही में एफएमसीजी उत्पादों के छोटे विनिर्माताओं की उद्योग में सहभागिता घटकर महज 2 प्रतिशत रह गई है. इस दौरान 14 प्रतिशत छोटे विनिर्माताओं ने अपना कारोबार बंद कर दिया. इसके उलट बड़े एफएमसीजी उत्पादकों की हिस्सेदारी बढ़कर 76 प्रतिशत पहुंच गई है.

नील्सन के दक्षिण एशिया प्रमुख समीर शुक्ला ने कहा, छोटे विनिर्माता बढ़ती महंगाई का दबाव नहीं सहन कर सके. लगातार घाटे की वजह से उन्हें अपना कारोबार समेटना पड़ा.

बिक्री में भी 14.4 प्रतिशत गिरावट
चाय, बिस्कुट, साबुन और क्रीम जैसे घरेलू इस्तेमाल के उत्पादों की बिक्री भी अक्तूबर के मुकाबले नवंबर में 14.4 प्रतिशत कम रही. इसका प्रमुख कारण छोटे दुकानदारों की संख्या में कमी है. इस दौरान छोटे और चालू किराना दुकानदारों की बिक्री में 8.8 प्रतिशत गिरावट आई.

यदि पिछले वर्ष से तुलना करें तो कंज़्यूमर उत्पादों की बिक्री 10.4 प्रतिशत बढ़ी है. इस वर्ष डिब्बाबंद खाद्य उत्पादों की मांग बढ़ी है, क्योंकि कार्यालय दोबारा खुलने और यात्राओं पर प्रतिबंध हटने से लोग घरों से बाहर निकलने प्रारम्भ हो गए हैं.

सीमेंट भी रिकॉर्ड महंगाई की ओर, 20 रुपये तक बढ़ेंगे दाम
कोयला, डीजल जैसे कच्चे माल के बढ़ते दाम से अगले कुछ महीनों में सीमेंट की खुदरा कीमतें 15-20 रुपये और बढ़ जाएंगी. रेटिंग एजेंसी क्रिसिल ने बृहस्पतिवार को बताया कि अगस्त से अब तक सीमेंट का खुदरा मूल्य 10-15 रुपये प्रति बोरी बढ़ चुका है. मार्च तक यह अपने रिकॉर्ड स्तर 400 रुपये प्रति बोरी के रेट पहुंच जाएगी.

लागत बढ़ने से कंपनियों का फायदा 100-150 रुपये प्रति टन कम हो गया है, जिसकी भरपाई के लिए कीमतें बढ़ानी होंगी. हालांकि, इस दौरान रियल एस्टेट और निर्माण क्षेत्र में सुधार से सीमेंट की खपत में भी 11-13 प्रतिशत का वृद्धि होगा.

Youtube के इतिहास में सबसे ज्यादा देखा जाने वाला वीडियो बना Baby Shark

Youtube के इतिहास में सबसे ज्यादा देखा जाने वाला वीडियो बना Baby Shark

विस्तार वैसे तो यूट्यब पर हर रोज लाखों वीडियोज पब्लिश होते हैं, लेकिन कुछ वीडियोज ऐसे होते हैं जो इतिहास बना देते हैं। इन्हीं में से एक वीडियो है Baby Shark जिसने इतिहास बना दिया है। Baby Shark यूट्यूब के इतिहास में सबसे ज्यादा देखा जाने वाला वीडियो है। 

Baby Shark वीडियो को 10 बिलियन यानी 100 करोड़ व्यूज मिले हैं। इससे पहले यूट्यूब पर किसी वीडियो को इतने व्यूज नहीं मिले हैं। Baby Shark के बाद दूसरे नंबर पर सबसे ज्यादा देखा जाने वाला वीडियो Despacito है जिसे 7.7 बिलियन व्यूज मिले हैं।

बेबी शार्क को दक्षिण कोरिया की एजुकेशनल इंटरटेनमेंट फर्म Pinkfong ने प्रोड्यूस किया है। इसमें कोरियन अमेरिकन सिंगर Segoine ने अपनी आवाज दी है। बेबी शार्क को 2016 में यूट्यूब पर अपलोड किया गया था। पिछले साल नवंबर में इस वीडियो को 7.04 बिलियन व्यूज मिले थे