कोरोना वायरस के विरूद्ध जंग में Wipro, अजीम प्रेमजी फाउंडेशन करेंगे 1,125 करोड़ रुपये का योगदान

कोरोना वायरस के विरूद्ध जंग में Wipro, अजीम प्रेमजी फाउंडेशन करेंगे 1,125 करोड़ रुपये का योगदान

नई दिल्ली, पीटीआइ. विप्रो लिमिटेड, विप्रो एंटरप्राइजेज लिमिटेड व अजीम प्रेमजी फाउंडेशन ने कोरोना वायरस के विरूद्ध देश में जारी अभियान में 1,125 करोड़ रुपये का सहयोग देने की घोषणा की है. कंपनी ने बुधवार को जारी एक बयान में इसकी जानकारी दी. कंपनी ने बोला कि इससे संक्रमण से पहले मोर्चे पर लड़ रहे स्वास्थ्यकर्मियों की मदद होगी. कंपनी ने बोला कि इसमें विप्रो लिमिटेड ने 100 करोड़ रुपये, विप्रो एंटरप्राइजेज ने 25 करोड़ रुपये व अजीम प्रेमजी फाउंडेशन ने एक हजार करोड़ रुपये का सहयोग दिया है. बयान में बोला गया कि यह अजीम प्रेमजी फाउंडेशन की कॉरपोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व (सीएसआर) के सहयोग से अलग है.

उधर, सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी केआईओसीएल ने हिंदुस्तान में कोरोना वायरस महामारी से लड़ने के लिए पीएम-केयर्स कोष में 10 करोड़ रुपये का सहयोग करेगी. केआईओसीएल के अध्यक्ष व प्रबंध निदेशक एम। वी। सुब्बा राव ने बोला कि कंपनी के कर्मचारियों ने इस कोष में एक-एक दिन का वेतन भी दिया है. उन्होंने बोला कि महामारी से लड़ने के लिए 10.1 करोड़ रुपये का सहयोग किया जा रहा है. इसके अतिरिक्त कंपनी के संयंत्रों के इर्द-गिर्द रहने वाले लोगों को महत्वपूर्ण वस्तुएं व भोजन भी उपलब्ध कराया जा रहा है.

इसके अतिरिक्त इंजीनियरिंग कंपनी भेल ने बुधवार को बोला कि कंपनी व उसके कर्मचारियों ने कोविड-19 महामारी से लड़ने के लिए बनाए गए विशेष कोष पीएम-केयर्स में कुल 15.72 करोड़ रुपये का सहयोग दिया है. भेल ने एक बयान में बताया कि उसने अपने सीएसआर (कॉरपोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व) कोष के माध्यम से सात करोड़ रुपये का सहयोग दिया है, जबकि उसके कर्मचारियों ने अपने एक-एक दिन का वेतन पीएम-केयर्स कोष में दिया है. कंपनी ने बताया कि इस तरह उसने कुल 15.72 करोड़ रुपये की राशि पीएम-केयर्स कोष में जमा की है.