चीनी ऐप्स के बाद अब सरकार ने रंगीन टेलीविजन सेट के आयात पर प्रतिबंध लगाया

चीनी ऐप्स के बाद अब सरकार ने रंगीन टेलीविजन सेट के आयात पर प्रतिबंध लगाया

सरकार ने रंगीन टेलीविजन के आयात पर प्रतिबंध लगा दिया है. इस कदम का मकसद घरेलू विनिर्माण को प्रोत्साहन देना व चाइना जैसे राष्ट्रों से गैर-जरूरी सामानों के आयात में कमी लाना है. विदेश व्यापार महानिदेशालय (डीजीएफटी) ने एक अधिसूचना में कहा, रंगीन टेलीविजन की आयात नीति को संशोधित किया गया है. इनकी आयात नीति को मुक्त से हटाकर प्रतिबंधित श्रेणी में लाया गया है.

किसी चीज को प्रतिबंधित श्रेणी में रखने का मतलब है कि उस सामान का आयात करने वाले कारोबारी को वाणिज्य मंत्रालय के भीतर आने वाले डीजीएफटी से आयात लाइसेंस लेना होगा. हिंदुस्तान में रंगीन टीवी का चाइना सबसे बड़ा निर्यातक है. उसके बाद क्रमश: वियतनाम, मलेशिया, हांगकांग, कोरिया, इंडोनेशिया, थाईलैंड व जर्मनी जैसे राष्ट्रों का जगह है. इस बीच एक अन्य निर्णय के तहत सरकार ने सौर सेल पर एक वर्ष के लिए व रक्षोपाय (सेफगार्ड) शुल्क लगा दिया है.

अब सौर सेल पर यह शुल्क जुलाई, 2021 तक लागू रहेगा. सरकार का बोलना है कि कि 2018-19 में रक्षोपाय शुल्क की वजह से सौर सेल के आयात में कमी आई. वहीं 30 जुलाई, 2019 से शुल्क दरों में कमी के बाद अप्रैल-सितंबर, 2019 के दौरान आयात बढ़ा अधिसूचना के मुताबिक 30 जुलाई, 2020 से 29 जनवरी, 2021 तक सौर सेल पर 14.9 फीसदी का रक्षोपाय शुल्क लगाया जाएगा. 30 जनवरी, 2021 से 29 जुलाई, 2021 तक रक्षोपाय शुल्क की दर 14.5 फीसदी रहेगी.