EPFO ने प्रारम्भ की यह नयी सुविधा, उठा सकते हैं ऐसे लाभ

EPFO ने प्रारम्भ की यह नयी सुविधा, उठा सकते हैं ऐसे लाभ

सेवानिवृत्ति कोष का प्रबंधन करने वाली संस्था ईपीएफओ ने छूट प्राप्त प्रतिष्ठानों से एकल भुगतान के जरिए थोक में कोष ट्रान्सफर की सुविधा प्रारम्भ की है. छूट प्राप्त प्रतिष्ठान वे हैं, जिन्हें ईपीएफ व एमपी अधिनियम, 1952 की धारा 17 के तहत छूट दी गई है व वे कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) के समग्र पर्यवेक्षण के रूप में खुद सदस्यों के भविष्य निधि कोष का प्रबंधन करते हैं.  श्रम सचिव ने सुविधा की आरंभ की है. इसमें उमंग ऐप के जरिये ईपीएफओ के मेम्बर योजना प्रमाणपत्र प्राप्त कर सकते हैं.

श्रम मंत्रालय के एक बयान में बोला गया है, ''श्रम व रोगजार सचिव अपूर्व चंद्रा ने सात अक्टूबर 2020 को ईपीएफओ मुख्यालय की अपनी पहली यात्रा के दौरान छूट प्राप्त ट्रस्टों से एकल भुगतान के जरिए थोक में कोष व डेटा के ट्रान्सफर की एक नयी सुविधा प्रारम्भ की. इस सुविधा से छूट प्राप्त प्रतिष्ठानों के लिए धन ट्रान्सफर की गति बढ़ेगी व कारोबार करना सरल होगा.  बयान के मुताबिक किसी मेम्बर के छूट प्राप्त संस्थान से गैर-छूट प्राप्त संस्थान में जाने पर उसकी भविष्य निधि ईपीएफओ को हस्तांतरित की जाती है. 

अभी तक छूट प्राप्त प्रतिष्ठानों को प्रत्येक मेम्बर के लिए कोष का भिन्न-भिन्न ट्रान्सफर करना पड़ता था. इससे प्रक्रिया बहुत ज्यादा जटिल रहती है. ईपीएफओ की ताजा पहल से प्रक्रिया सरल होगी व 1,500 के करीब छूट प्राप्त संस्थानों को लाभ होगा. किसी कर्मचारी के बिना छूट वाले प्रतिष्ठान से छूट प्राप्त प्रतिष्ठान में स्थानांतरित होने की स्थिति में ईपीएफओ इलेक्ट्रानिक ढंग से छूट प्राप्त संस्थान के बैंक खाते में धन का सीधे ट्रान्सफर कर देता है व उसका ब्यौरा संबंधित प्रतिष्ठान के लॉगइन में उपलब्ध करा दिया जाता है.