तालाबंदी के बाद चीनी की मांग में होगा सुधार : इस्मा

तालाबंदी के बाद चीनी की मांग में होगा सुधार : इस्मा

नई दिल्ली: तालाबंदी के बाद चीनी की मांग सुधरेगी। शुगर मिल्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (ISMA) का कहना है कि देश में चीनी की मांग में सुधार होने लगा है और होटल और रेस्तरां खुलने के बाद इसमें और सुधार होगा।

सरकार ने देशव्यापी तालाबंदी को 30 जून तक बढ़ा दिया है। इसके अलावा, 'अनलॉक इंडिया' योजना की घोषणा की गई है, जिसके तहत मॉल, होटल, रेस्तरां और धार्मिक स्थान खोले जाएंगे। हालांकि, उन क्षेत्रों में कोई छूट नहीं होगी जहां कोविद -19, यानी कोरोना वायरस के मामले अधिक हैं।
इस्मा ने कहा कि गर्मियों की मांग के अलावा, यह आशा की गई थी कि चीनी मिलें न केवल अपना पूरा जून कोटा, बल्कि शेष मई कोटा भी बेच सकेंगी। सरकार ने चीनी मिलों को मई में 1,700,000 टन चीनी और जून में 18,50,000 टन चीनी बेचने की अनुमति दी है। मई कोटे को बेचने के लिए एक महीने का समय है। उत्पादन पर, इस्मा ने कहा कि 2019-20 (अक्टूबर-सितंबर) सीजन के पहले आठ महीनों में चीनी उत्पादन 2.68 करोड़ टन रहा। हालांकि, पिछले साल की समान अवधि में यह 32.7 मिलियन टन से कम है। हालांकि, उद्योग निकाय का मानना ​​है कि इस सीजन में चीनी का उत्पादन 27 मिलियन टन तक पहुंच सकता है, जो कि 265 मिलियन टन के पिछले अनुमान से अधिक है।