पूर्व मंत्री नागमणि ने की बड़ी घोषणा, अगर मेरी सरकार बनी तो शराबबंदी खत्‍म; ठग रहे सीएम नीतीश

पूर्व मंत्री नागमणि ने की बड़ी घोषणा, अगर मेरी सरकार बनी तो शराबबंदी खत्‍म; ठग रहे सीएम नीतीश

हमारी पार्टी की बिहार में सरकार बनेगी तो सबसे पहले शराबबंदी को खत्म किया जाएगा। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार समाज को ठगने का काम किया हैं। बिहार लेनिन के नाम से चर्चित शहीद जगदेव प्रसाद के इकलौते पुत्र व पूर्व केंद्रीय मंत्री नागमणि ने शुक्रवार को यहां एक सिनेमा हॉल में उक्त बातें प्रेस वार्ता में कही। उन्होंने कहा कि आगामी 30 सितंबर को पटना में अपनी नई पार्टी का गठन करेंगे जिसके लिए वे पूरे बिहार का दौरा कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि अगर उनकी पार्टी की सरकार बिहार में बनती है तो सबसे पहले वह शराबबंदी को खत्म करेंगे। उन्होंने कहा कि शराब पीना कोई गलत बात नहीं है लेकिन शराब पीकर हंगामा करना और महिलाओं का पीटना गलत बात है । उन्होंने कहा कि शराबबंदी को समाप्त करने के बाद कानून बनाया जाएगा कि कोई व्यक्ति शराब पीकर मारपीट या हंगामा करता है तो उनके विरुद्ध सख्त कानूनी कार्रवाई की जाएगी।


उन्होंने आरोप लगाया कि कुछ महिलाओं के कहने पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार में शराबबंदी लागू कर दिया है ।जो पूरी तरह से विफल है। उन्होंने कहा कि नई पार्टी के गठन के बाद आने वाले चुनाव में अगर उनकी पार्टी की सरकार बनती है तो उनकी जाति का ही मुख्यमंत्री बनाया जाएगा। साथ ही पांच उपमुख्यमंत्री बनाए जाएंगे जिसमें सवर्ण जाति ,दलित, अति पिछड़ा, मुस्लिम, यादव होंगे। उन्होंने जदयू संसदीय दल के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा पर निशाना साधते हुए कहा कि उन्होंने अपने जाति को बेचने का काम किया है।

इससे पूर्व औरंगाबाद में जदयू के बागी नागमणि ने कहा था कि लालू यादव के 15 साल के शासनकाल से बिहार की जनता ने ऊबकर नीतीश कुमार को मुख्‍यमंत्री की कुर्सी पर बिठाया था। मगर उनका 16 साल का शासनकाल और भी बदत्तर हो गया। शिक्षा और स्‍वास्‍थ्‍य सेवाएं चौपट हो चुकी हैं।


समस्तीपुर में नामांकन के दौरान रुपये बांट रहे निवर्तमान मुखिया का वीडियो वायरल

समस्तीपुर में नामांकन के दौरान रुपये बांट रहे निवर्तमान मुखिया का वीडियो वायरल

पटोरी प्रखंड कार्यालय परिसर में एक निवर्तमान मुखिया के द्वारा नामांकन के पश्चात सरकारी कर्मी और पुलिसकर्मियों के बीच रुपये बांटने का वीडियो वायरल हुआ है। वायरल वीडियो इंटरनेट मीडिया पर चर्चा का विषय बना हुआ है। इसे काफी तेजी से शेयर किया जा रहा है तथा कई प्रकार के कमेंट्स भी आ रहे हैं। हालांकि दैनिक जागरण इस वायरल वीडियो की पुष्टि नहीं करता है किंतु इसकी शिकायत पटोरी के प्रखंड विकास पदाधिकारी सह निर्वाचन अधिकारी को लिखित रूप से मिली है। शिकायत मिलने के पश्चात प्रखंड विकास पदाधिकारी ने इस मामले की छानबीन का जिम्मा पटोरी के सीओ सह नोडल पदाधिकारी विकास कुमार को सौंप दिया है।


वायरल वीडियो में स्पष्ट दिखाया गया है कि पटोरी प्रखंड के हरपुर सैदाबाद के निवर्तमान मुखिया अवधेश राय नामांकन के पश्चात प्रखंड कार्यालय परिसर में स्थित मंदिर में पूजा अर्चना के पश्चात पुलिस और सरकारी कर्मियों तथा वहां मौजूद लोगों के बीच 500 रुपए के नोट बांटते नजर आ रहे हैं। इस संबंध में पूछे जाने पर पटोरी के अंचल पदाधिकारी विकास कुमार ने बताया की वायरल वीडियो तथा मिली शिकायत के पश्चात अभ्यर्थी के विरुद्ध आचार संहिता के उल्लंघन की प्राथमिकी पटोरी थाने में दर्ज कराई गई है।

 
बिना नामांकन कराए बैरंग लौटी महिला मुखिया प्रत्याशी

वारिसनगर। प्रखंड में शनिवार से शुरू हुए नामांकन प्रक्रिया में तब अजीबोगरीब स्थिति पैदा हो गई। जब मोहिउद्दीनपुर पंचायत से नामांकन करने आयी एक महिला प्रत्याशी को प्रखंड विकास पदाधिकारी सह प्रखंड निर्वाची पदाधिकारी रंजीत कुमार वर्मा ने बिना नामांकन कराए बैरंग वापस कर दिया। उनका बताना था कि उक्त पंचायत से अंशु कुमारी पति आशीष आनंद मुखिया पद से नामांकन करने आयी थी। परंतु उनके द्वारा प्रस्तुत कागजात में जन्मतिथि 30 अगस्त 2001 होने पर निर्वाचन के लिए तय उम्र सीमा 21 वर्ष की अहर्ता पूर्ण नही करने के कारण उसके नामांकन पत्र को वापस कर दिया गया। बताया गया कि बीडीओ ने कहा कि उम्र 20 साल ही पूरा हो रहा है। ऐसे में नामांकन के बाद भी वह रद हो जाएगा। इस पर प्रत्याशी बिना नामांकन किए हुए वापस लौट गई।